मंगलवार, 6 नवंबर 2012

उनके बिना जिंदगी ...


खता एक मेरे दिल ने की है,
उनसे बेपनाह मोहब्बत की है,
रहे अगर वो नजरों के सामने,
तो मेरी जिंदगी जिंदगी सी है,
उसके बिना जीना पड़े अगर,
तो जिंदगी जहन्नुम सी है ...

दिल भरके देखलूं उसको मैं,
तो मेरी जिंदगी में खुशियाँ हैं ,
अगर नजर ना आये मुझे वो,
तो जिंदगी एक इन्तजार सी है,
बनके रहे वो बस मेरा ही हमेशा,
बस अब यही एक हसरत है मेरी,

अगर भगवान् को मंजूर नहीं मिलना,
तो मुझे मंजूर उसके प्यार में मरना,
क्यूंकि बिना उनके प्यार के जिंदगी,
बिन पानी के तड़पती मछली सी है ..

9 टिप्‍पणियां: